swamiprasad

मा0, नेता विरोधी दल, उत्‍तर प्रदेश विधान सभा

     

नाम

श्री स्‍वामी प्रसाद मौर्य,

 

पद

मा0, नेता विरोधी दल, उत्‍तर प्रदेश विधान सभा

जन्‍म तिथि

02 जनवरी, 1954

जन्‍म स्‍थान 

ग्राम व पो0- चकवड़, जनपद- प्रतापगढ़, उ0 प्र0

पिता का नाम

स्‍व0 श्री बदलू

माता का नाम

स्‍व0 श्रीमती जगन्‍नाथी मौर्य

धर्म 

बौद्ध

वैवाहिक स्थिति

विवाहित

संतान

दो

एक पुत्री डा0 संघमित्रा एवं एक पुत्र उत्‍कृष्‍ट मौर्य(अशोक)

भाई  

तीन (भाइयों में सबसे छोटे)

बहिन 

एक (सबसे छोटी)

शिक्षा

एम00,, एलएल0बी0 (इलाहाबाद विश्‍वविद्यालय)

व्‍यवसाय    

कृषि एवं विधि (वकालत)

(मा0 उच्‍च न्‍यायालय, इलाहाबाद)

राजनीतिक जीवन

  • 1980 में इला‍हाबाद युवा लोकदल के संयोजक के रूप में आपने सक्रिय राजनीति की शुरूआत की।
  • 1981 में आज उ0 प्र0 युवा लोकदल की प्रदेश कार्य समिति के सदस्‍य बने तथा जून, 1981 से सन् 1985 तक उ0 प्र0 युवा लोकदल के महामंत्री पद पर भी आसीन रहे।
  • 1986 से 1989 तक आप उ0 प्र0 लोकदल के महामंत्री पद पर आसीन रहे।
  • 1989 से 1991 तक आप उ0 प्र0 लोकदल के मुख्‍य महासचिव रहे।
  • 1991 से 1995 तक आप उ0 प्र0 जनता दल के  महासचिव रहे।
  • 1996 में उ0 प्र0 विधान सभा के आम चुनावों से पूर्व जनता दल एवं समाजवादी पार्टी के गठबंधन का विरोध करते हुए जनता दल से त्‍याग पत्र देने के उपरान्‍त 02 जनवरी, 1996 को बहुजन समाज पार्टी की तत्‍कालीन राष्‍ट्रीय महासचिव सुश्री बहिन मायावती जी की उपस्थिति में लखनऊ के रवीन्‍द्रालय में  आपने कार्यकर्ताओं/ साथियों के साथ मान्‍यवर कांशीराम जी के नेतृत्‍व में आस्‍था व्‍यक्‍त करते हुए बहुजन समाज पार्टी में सम्मिलित होने की घोषणा की एवं घोषणा के उपरान्‍त ही सुश्री मायावती जी द्वारा बहुजन समाज पार्टी, उत्‍तर प्रदेश का महासचिव नियुक्‍त किया गया एवं बाद में लोक सभा चुनाव तक के लिए संगठन को सुदृढ़ करने के लिए प्रदेश उपाध्‍यक्ष का दायित्‍व भी सौंपा गया। तदन्‍तर पुन: प्रदेश महासचिव के रूप में संगठन का दायित्‍व संभालते रहे और इसी क्रम में 08 जनवरी, 2008 को बहुजन समाज पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष सुश्री बहिन कु0 मायावती जी द्वारा आपको बहुजन समाज पार्टी का प्रदेश अध्‍यक्ष बनाया गया तथा सम्‍प्रति प्रदेश अध्‍यक्ष के पद का निर्वहन आज भी आपके द्वारा किया जा रहा है।
  • 1996 में बहुजन समाज पार्टी के प्रत्‍यासी के रूप में विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र संख्‍या-96 डलमऊ, जनपद- रायबरेली से उ0 प्र0 विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित हुए।
  • दिनांक 27 मार्च, 1997 से 19 अक्‍टूबर, 1997 तक बहुजन समाज पार्टी एवं भारतीय जनता पार्टी की गठबंधन सरकार में कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेकर खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग के दायित्‍वों का निर्वहन किया।
  • सुश्री मायावती जी के सांसद चुने जाने पर उत्‍तर प्रदेश बहुजन समाज पार्टी में नेता विधान मण्‍डल दल तथा उत्‍तर प्रदेश विधान सभा में दिनांक 18 सितम्‍बर, 2001 को नेता विरोधी दल की जिम्‍मेदारी का दायित्‍व आपको सौंपा गया तथा इस पद की गरिमा के अनुरूप आपने भली भांति दिनांक 17 अक्‍टूबर, 2001 तक इस पद का निर्वहन किया।
  • वर्ष 2002 में उत्‍तर प्रदेश विधान सभा के आम चुनाव में पुन: विधान सभा क्षेत्र 96- डलमऊ, रायबरेली से बहुजन समाज पार्टी से दोबारा विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित होकर 03 मई, 2002 से 29 अगस्‍त, 2003 तक सुश्री मायावती जी के नेतृत्‍व वाली बहुजन समाज पार्टी एवं भारतीय जनता पार्टी की गठबंधन सरकार में पुन: कैबिनेट मंत्री की शपथ लेकर खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग के मंत्री के साथ ही साथ दिनांक 06 मई, 2002 से 29 अगस्‍त, 2003 तक उत्‍तर प्रदेश विधान परिषद् में नेता सदन के दायित्‍वों का भी निर्वहन किया।
  • सुश्री मायावती जी के द्वारा विधान सभा से इस्‍तीफा दिये जाने के उपरान्‍त आप पुन: नेता विधान मण्‍डल दल बहुजन समाज पार्टी एवं उत्‍तर प्रदेश विधान सभा में दिनांक 30 अगस्‍त, 2003 को नेता विरोधी दल पद पर आसीन हुए तथा दिनांक 07 सितम्‍बर, 2003 तक इस पद पर आसीन रहे।
  • वर्ष 2007 के विधान सभा चुनाव में निर्वाचित न होने पर दिनांक 13 मई, 2007 को उत्‍तर प्रदेश बहुजन समाज पार्टी की पूर्ण बहुमत वाली सरकार में सुश्री मायावती के नेतृत्‍व में आप चौथी बार कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेकर राजस्‍व मंत्री के पद पर आसीन हुए तथा आप दिनांक 29 जून, 2007 को विधान परिषद् सदस्‍य निर्वाचित हुए। आप सहकारिता मंत्री के दायित्‍वों के साथ ही साथ दिनांक 17 मई, 2007 से दिनांक 30 मई, 2009 तक नेता सदन, विधान परिषद् के पद पर आसीन रहे।
  • नवम्‍बर, 2009 में उत्‍तर प्रदेश विधान सभा के उप चुनाव में विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र 181, पडरौना, जनपद- कुशीनगर से विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित हुए।
  • दिनांक 15 नवम्‍बर, 2009 को पांचवीं बार कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेकर पंचायतीराज मंत्री के पद पर आसीन हुए एवं वर्तमान में पंचायती राज के दायित्‍वों के साथ ही साथ दिनांक 18 नवम्‍बर, 2009 से नेता सदन विधान परिषद् के पद पर 15 मार्च, 2012 तक आसीन रहे।
  • दिनांक 08 अप्रैल, 2011 को आपको भूमि विकास जल संसाधन एवं दिनांक 01 दिसम्‍बर, 2011 को डा0 अम्‍बेडकर ग्रामीण समग्र विकास विभागों का दायित्‍व भी सौंपा गया।
  • वर्ष 2012 के विधान सभा आम चुनाव में पुन: विधान सभा क्षेत्र 330, पडरौना, जनपद- कुशीनगर से विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित हुए।
  • दिनांक 16 मार्च, 2012 को आप तीसरी बार उ0 प्र0 विधान सभा में नेता विरोधी दल के पद पर आसीन हुए हैं।

उल्‍लेखनीय योगदान

  • सामाजिक तथा राजनीतिक रूप से व्‍यस्‍त होने के कारण वकालत से सन्‍यास।
  • उत्‍तर प्रदेश मण्‍डल आयोग की सिफारिशों को लागू करवाने के लिए उत्‍तर प्रदेश आरक्षण मंबैनर तले जोरदार मुहिम छेड़ते हुए अनेक छोटे-बड़े कार्यक्रम दलित/पिछड़े वर्गों में चेतना जगाने का कार्य किया साथ ही साथ पिछड़े वर्ग के बिखरे हुए मौर्य, कुशवाहा, शाक्‍य एवं सैनी समाज को एकजुट करने के लिए प्रदेश स्‍तर पर बड़े पैमानपर कार्यक्रम आयोजित कर संगठित करने का कार्य किया। दलित/ पिछड़ों के सम्‍मान, स्‍वाभिमान तथा उनके अधिकार दिलाने के लिए अनेक बार धरना, प्रदर्शन एवं आन्‍दोलनों के कारण कई बार गिरफ्तारियां दी तथा सत्‍याग्रह के माध्‍यम से 40 दिनों की अवधि तक जेल में भी रहे।
  • आपने हमेशा संगठन एवं पार्टी के प्रति निष्‍ठावान एवं विश्‍वसनीय कार्यकर्ता/ पदाधिकारी के रूप में अपनी पहचान बनाई तथा सरकार एवं विपक्ष एवं अनेक महत्‍वपूर्ण पदों पर रहकर अपनी क्षमता का पूर्ण रूप से प्रदर्शन कर निर्भीकता, स्‍पष्‍टवादिता, वाकपटुता एवं मुखरवक्‍ता के रूप में अपनी एक अलग पहचान स्‍थापित करते हुए जनता के प्रति वचनबद्धता की एक अनूठी मिसाल कायम की।